For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

वो बात पूछती है अक्सर सहेलियों में

वो बात पूछती है अक्सर सहेलियों में 
क्या प्यार की लकीरें सच हैं हथेलियों में ||

आया जवाब ऐसा इजहार -ए- मुहोब्बत 
ना में जवाब ढूंढो हाँ का पहेलियों में ||

उसकी हसीन सूरत , कैसे बयाँ करूँ मै
हसीन चाँद लाखों जैसे जलें दियों में ||

गुस्ताख ये नजर भी हर सू उसे निहारे 
फूलों की शोखियों में रंगीन तितलियों में ||

नाराजगी तुम्हारी मासूमियत भरी हैं 
जैसे छुपी मुहोब्बत हो माँ की गालियों में ||

इनकार से डरूं क्या जब प्यार हो गया है 
कब से खड़ा यहाँ मै बैठा सवालियों में ||

हर दर्द हो फ़ना जब तेरे करीब आऊँ 
रौशन रहे अमावस जैसे दिवालियों में ||

नादान दिल हमारा , सुनता नहीं हमारी 
पंछी उड़े अकेला , अन्जान डालियों में ||

हर गीत या गजल की बस एक इल्तजा है 
सजती रहे जुबां पर , हो प्यार तालियों में ||......मनोज

Views: 218

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by ram shiromani pathak on March 5, 2013 at 2:16pm

उसकी हसीन सूरत , कैसे बयाँ करूँ मै
हसीन चाँद लाखों जैसे जलें दियों में ||

गुस्ताख ये नजर भी हर सू उसे निहारे 
फूलों की शोखियों में रंगीन तितलियों में ||

नाराजगी तुम्हारी मासूमियत भरी हैं 
जैसे छुपी मुहोब्बत हो माँ की गालियों में ||

इनकार से डरूं क्या जब प्यार हो गया है 
कब से खड़ा यहाँ मै बैठा सवालियों में ||

हर दर्द हो फ़ना जब तेरे करीब आऊँ 
रौशन रहे अमावस जैसे दिवालियों में ||

आदरणीय मनोज  जी क्या कहे शब्द कम पड़ गए है .......वाह वाह .....

Comment by Shyam Narain Verma on March 5, 2013 at 12:44pm

Comment by Shyam Narain Verma on March 5, 2013 at 12:44pm

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

DINESH KUMAR VISHWAKARMA replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"सादर नमन नाहक जी। गुज़रे हैं उनके इश्क़ में.. यह अच्छा लगा। ग़ज़ल पसंद आया।"
2 minutes ago
DINESH KUMAR VISHWAKARMA replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"सादर नमन आदरणीय।ग़ज़ल अच्छी लगी।सातवां शैर बहुत अच्छा है।"
9 minutes ago
DINESH KUMAR VISHWAKARMA replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"सादर नमस्कार आदरणीय दिनेश जी। हृदयतल से आभार आपका।"
11 minutes ago
दिनेश कुमार replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"ग़ज़ल का प्रयास सराहनीय है आ. भाई दिनेश जी।  2nd शेर बढ़िया लगा। वाह"
22 minutes ago
दिनेश कुमार replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"सराहनीय प्रयास आ. मतले में, 6th शे'र में शुतुरगर्बा दोष है शायद। वादा करें जो साथ निभाने का…"
35 minutes ago
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"आदरणीय सौरभ जी, नमस्कार बहुत बहुत शुक्रिया आपका इस विषय पे प्रकाश डालने के लिए,  कुछ नया जानने…"
1 hour ago
सालिक गणवीर replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"जी,उस्ताद जी.आपकी इस्लाह के बाद ग़ज़ल प्रस्तुत है. सुनाता है,की बजाय मैंने सुना रहा इस्तेमाल…"
2 hours ago
Anil Kumar Singh replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"बहुत बहुत धन्यवाद मान्या "
2 hours ago
Anil Kumar Singh replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"बहुत बहुत शुक्रिया मान्यवर "
2 hours ago
Anil Kumar Singh replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"शुक्रिया जनाब "
2 hours ago
Anil Kumar Singh replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"बहुत बहुत धन्यवाद मान्यवर "
2 hours ago
Anil Kumar Singh replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"बहुत बहुत धन्यवाद मान्या "
2 hours ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service