For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

वो कहते हैं वतन के ख़्वाब हम मिस्मार कर देंगे( 130 )

वो कहते हैं वतन के ख़्वाब हम मिस्मार कर देंगे
सभी के बीच नफ़रत की खड़ी दीवार कर देंगे
**
सियासत सिर्फ़ चमके एक है उनका यही मक़सद
घरों में दुश्मनों की फौज़ को तय्यार कर देंगे
**
वो ऐसे बीज बोएँगे उगेगी फ़स्ल काँटों की
उन्ही काँटों से फिर हर रास्ता दुश्वार कर देंगे
**
वो इतनी नफ़रतें भी पाल कर क्यों चैन से रहते
सुकूँ इस मुल्क से क्या ख़त्म कुछ मक्कार कर देंगे
**
वतन के वास्ते क्या फ़र्ज़ हैं उससे नहीं वाक़िफ़
मगर हक़ के लिए तक़रीर की बौछार कर देंगे
**
रिआया ने दिया दुत्कार जिनको है चुनावों में
तमन्ना उनकी है जनता को हम लाचार कर देंगे
**
किसी को हक़ नहीं कानून देता है रिआया को
कि रुसवा लोग यूँ आकर सर-ए-बाजार कर देंगे
**
कभी सोचा न था कुछ लोग यूँ औज़ार खेतों के
बदलकर इस तरह से जंग का हथियार कर देंगे
**
कोई कितना ज़ियाँ कर दे इरादा है 'तुरंत' अपना
हम अपनी कोशिशों से फिर वतन गुलज़ार कर देंगे
**
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' बीकानेरी
मौलिक व अप्रकाशित

Views: 239

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' on February 19, 2021 at 7:17pm

आदरणीय लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' 

जी , आदाब , आपकी हौसला आफ़जाई के लिए दिल से शुक्रगुज़ार हूँ | 

Comment by लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' on February 19, 2021 at 4:52pm

आ. भाई गिरधारी सिंह जी, सादर अभिवादन । अच्छी गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।

Comment by गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' on February 19, 2021 at 9:29am

आदरणीय बृजेश कुमार 'ब्रज'  जी , आदाब , आपकी हौसला आफ़जाई के लिए दिल से शुक्रगुज़ार हूँ | 

Comment by बृजेश कुमार 'ब्रज' on February 18, 2021 at 9:48pm

बहुत ही बढ़िया ग़ज़ल कही है आदरणीय गहलोत जो....तीसरे शे'र पे जरा गौर फरमाएं..सादर।

Comment by गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' on February 17, 2021 at 7:31pm

भाई Aazi Tamaam जी , आपकी हौसला आफ़जाई के लिए दिल से शुक्रगुज़ार हूँ | 

Comment by Aazi Tamaam on February 17, 2021 at 4:52pm

सादर प्रणाम जनाब तुरंत जी

बेहद खूबसूरत ग़ज़ल है

बधाई स्वीकार करें........... 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Naveen Mani Tripathi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"आ0 ऋचा यादव जी ग़ज़ल तक आने के लिए तहेदिल से शुक्रिया ।"
1 minute ago
Naveen Mani Tripathi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"जनाब उस्ताद मोहतरम कबीर साहब ग़ज़ल तक आने के लिए तहेदिल से बहुत बहुत शुक्रिया ।आपके द्वारा दी गयी…"
2 minutes ago
Naveen Mani Tripathi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"मोहतरमा भाटिया जी ग़ज़ल तक आने के लिए तहेदिल से बहुत बहुत शुक्रिया । तकबुल रदीफ़ शेर में है ऐसा मुझे…"
6 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"'ज़िन्दगानी ने दिए मौके सँवरने के लिए' इस मिसरे को यूँ कहें:- 'ज़िन्दगी ने तो दिए…"
10 minutes ago
Chetan Prakash replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"योद्धा तो झोंकते जाँ हैं सँवरने  के  लिए  देश कुछ क़मज़ात हैं वो पर कुतरने के…"
52 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"आ. भाई समर जी, सादर अभिवादन । गजल फर उपस्थिति, स्नेह और मार्गदर्शन के लिए आभार। सबसे पहले गिरह आपकी…"
1 hour ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"आदरणीय दण्डपाणि नाहक जी बहुत ख़ूब ग़ज़ल हुई। बधाई। तीसरा बहुत अच्छा लगा। विशेष बधाई।"
1 hour ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"आदरणीय सर् बहुत अच्छी इस्लाह दी आपने। सादर नमस्कार।"
1 hour ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"आदरणीय नवीन मणि त्रिपाठी जी बहुत ख़ूब ग़ज़ल हुई। वाह वाह। मुझे लगता है तीसरे में कुछ लफ़्ज़ों के…"
1 hour ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"आदरणीय लक्ष्मण धामी भाई नमस्कार। बहुत अच्छी ग़ज़ल हुई। बधाई। कई शुद्ध हिन्दी के शब्द पढ़ने को…"
1 hour ago
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"आदरणीय लक्ष्मण जी, नमस्कार अच्छी ग़ज़ल हुई है, बधाई स्वीकार कीजिये सादर।"
1 hour ago
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"आदरणीय लक्ष्मण जी, नमस्कार बहुत शुक्रिया आपका। सुधार किए हैं ग़ज़ल में देखियेगा, तरह का प्रयोग तो ठीक…"
1 hour ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service