For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

बृजेश नीरज's Comments

Comment Wall (54 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 7:07pm on January 3, 2016, Sushil Sarna said…

नूतन वर्ष 2016 आपको सपरिवार मंगलमय हो। मैं प्रभु से आपकी हर मनोकामना पूर्ण करने की कामना करता हूँ।

सुशील सरना

At 9:08pm on June 15, 2014, mrs manjari pandey said…
आदरणीय बृजेश नीरज जी बहुत बहुत धन्यवाद उत्साहवर्धन के लिए
At 6:13pm on March 30, 2014, Dr Dilip Mittal said…

आदरणीय बृजेशजी ,
क्षणिकाएँ क्या होती हैं, शिल्प क्या है , इसका technical ज्ञान मुझे नहीं है ,
इन पर रौशनी डालना बड़े साहित्यकारों कि बातें है ,
मेरा प्रयास मेरे भावों को मेरी रचनाओं में केवल लीपीबद्द करना मात्र ही है,
इस प्रयास में क्या बनता है कविता, क्षणिका,या कुछ और मुझे नहीं पता,
हाँ आप लोगों के सानिध्य से कुछ मार्ग दर्शन मिलेगा तो मुझे प्रसन्नता होगी ,
शुक्रिया

At 7:04pm on January 21, 2014, Alka Gupta said…

हार्दिक अभिनन्दन आपकी अनुपम कृतियों का ...आपने हमारी रचनाओं पर जो द्रष्टि डाली उसके लिए ह्रदय से आभारी हूँ एवं आपके उपयोगी सुझाव के लिए भी ....बहुत -बहुत धन्यवाद कृपया इसी प्रकार अनुग्रहित करते रहें ...

At 11:10am on January 11, 2014, अरुन शर्मा 'अनन्त' said…

हार्दिक आभार आदरणीय बृजेश भाई जी

At 11:52am on January 5, 2014, अखिलेश कृष्ण श्रीवास्तव said…

आदरणीय बृजेश नीरज भाई,

ओबीओ से हर व्यक्ति को बहुत कुछ सीखने मिलता है। प्रकाशित रचनायें इतनी अच्छी होती हैं हर कोई इस मंच में यथा संभव सक्रिय रहना चाहता है। इस बार   सक्रिय सदस्य के  योग्य मुझे समझा गया इसके लिए मैं ओबीओ की प्रबंधन टीम और सभी सदस्यों के प्रति आभार व्यक्त करता हूँ ॥  नव वर्ष की शुभकामनाओं के साथ .... 

***अखिलेश कृष्ण श्रीवास्तव      

At 9:05pm on December 6, 2013, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

ब्रिजेश नीरज जी

आपका स्नेह रंग लाया  i बहुत बहुत आभार i

At 5:52pm on December 4, 2013, Dr Dilip Mittal said…

 सादर आभार 

At 3:20pm on December 3, 2013, Sushil Sarna said…

aapka friend hona mere liye grv kee baat hai. haardik aabhaar Brijesh jee

At 12:42pm on November 27, 2013, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

ब्रजेश जी

आप के सुझाव्  का ह्रदय से स्वागत है i  मैंने  आपके पन्ने पर  काव्य गोष्ठी का विडियो देखा i बहुत अच्छा  लगा i 'परो को ----' देखने को नहीं मिला  i वर्ना मै भी दो शब्द  कहता i मैंने आपको नीरज जी नहीं कहा i आप समझ ही गए होंगे क्यों ? हा---हा--- ओबो ओ  के लिए आप प्राणस्वरूप है  i आप नौकरी के साथ इतना मैनेज कर लेते है i आश्चर्य् होता है i ईश्वर आपको ऐसे ही उर्ज्वस्वित रखे i आमीन i

At 9:50pm on November 26, 2013, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

ब्रजेश जी

आपकी सराहना के लिए आभार  किन्तु यह  कविता  नहीं है, केवल  संवाद है i मूल रूप में यह  लघु- कथा ही है  i आपके स्नेहिल टिप्पणी का पुनः आभार  i

At 9:49am on November 20, 2013, लक्ष्मण रामानुज लडीवाला said…

आपकी मित्रता स्वीकार करते हुए ख़ुशी हो रही है श्री बृजेश नीरज जी | आशा है हम

मिलकर साहित्य वृद्धि  में अपना अधिक योगदान दे पायेंगे |

At 8:28pm on November 14, 2013, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

नीरज  जी आपका कथन स्वीकार्य है  दरअसल  वह अतुकांत कविता यूँ ही बैठे ठाले केवल बाल दिवस के लिए ब्लॉग पर सीधे पोस्ट की थी  but actually that is not my cup of tea . 

आपने अच्छा  किया  मुझे शुरू में ही सचेत कर दिया  अब बैठे ठाले  कुछ नहीं भेजूंगा  i

आपकी यथार्थपरक प्रतिक्रिया के लिए आपको साधुवाद.

At 3:29pm on November 10, 2013, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

आसमान टूटेगा , शायद धरती का रंग भी बदले, पर अफ़सोस हमी न रहेंगे  पर कोई  आमूल चूल परिवर्तन तो हो  i  पूरी कविता में कसावट है  बुनावट है REALLY WELL VERSED.  मेरी शुभ कामनाये  I

At 2:24am on November 10, 2013,
सदस्य कार्यकारिणी
sharadindu mukerji
said…

आपकी शुभकामनाएँ मेरे सर आंखों पर. सादर आभार.

At 9:09pm on October 14, 2013, vibha rani shrivastava said…

बहुत बहुत धन्यवाद आपका 

At 11:02am on October 4, 2013, PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA said…

कार्यकारिणी सदस्य टीम मे शामिल होने की आपको सस्नेह  बधाई 
आप अपने दायित्य में सफल रहें...
सादर शुभकामनाएं

At 11:01pm on October 2, 2013, Vindu Babu said…
कार्यकारिणी सदस्य टीम मे शामिल होने की आपको बहुत बधाई आदरणीय।
आप अपने दायित्य में सफल रहें...
सादर शुभकामनाएं
At 11:01am on October 2, 2013,
सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी
said…

आदरणीय बृजेश भाई , आपका बहुत शुक्रिया !!

At 9:27am on October 2, 2013, D P Mathur said…

आदरणीय बृजेश सर ,  ओ बी ओ प्रबंधन टीम का शुक्रिया करने के साथ ही आपको कार्यकारिणी में मिले नये दायित्व से हम सभी को आपका मार्ग दर्शन पहले से अधिक मिल सकेगा इस खुशी के साथ आपको अनेकों बधाई ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post गजल(बाअदब सब....)
"मेरे लिए 'आदरणीय' ही है।"
9 minutes ago
Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post गजल(बाअदब सब....)
"आदरणीय कालीपद जी,शुक्रिया। मेरे 'आदरणीय' पर्याप्त है,सादर।"
10 minutes ago
Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post गजल(बाअदब सब....)
"आदरणीय अजय जी,आपका आभार।"
11 minutes ago
Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post गजल(बाअदब सब....)
"बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय आरिफ जी।"
12 minutes ago
Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post गजल(बाअदब सब....)
"आभारी हूँ आदरणीय अफरोज जी।"
12 minutes ago
Profile IconRamkunwar Choudhary and Manika Dubey joined Open Books Online
1 hour ago
Kalipad Prasad Mandal commented on Manan Kumar singh's blog post गजल(बाअदब सब....)
"आदरणीया मनन जी , खुबसूरत ग़ज़ल के लिए बधाई स्वीकार करें "
2 hours ago
Kalipad Prasad Mandal commented on Ram Awadh VIshwakarma's blog post ग़ज़ल - यूँ ही गाल बजाते रहिये
"आदरणीय राम अवध विश्वकर्मा जी , सामयिक विषय पर बहुत खुबसूरत ग़ज़ल हुई है |बधाई आपको "
2 hours ago
Kalipad Prasad Mandal commented on Samar kabeer's blog post 'ग़ालिब'की ज़मीन में एक ग़ज़ल
"आदरणीय समर कबीर साहब ,आदाब बहुत गज़ब की ग़ज़ल  हुई है | है तो यह ग़ज़ल फिर भी मेरा विचार है तीसरा…"
2 hours ago
दिनेश कुमार posted a blog post

तज़्मीन बर ग़ज़ल // "ज़िन्दगी में मज़ा नहीं बाक़ी" // दिनेश कुमार

एक कोशिश।तज़मीन बर ग़ज़ल जनाब फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ साहब।..फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ेलुन..इश्क़ का…See More
2 hours ago
Kalipad Prasad Mandal commented on बासुदेव अग्रवाल 'नमन''s blog post लम्बे रदीफ़ की ग़ज़ल (कज़ा मेरी अगर जो हो)
"आदरणीय बासुदेव अग्रवाल जी  , बहुत सुन्दर ग़ज़ल हुई है | इस नया प्रयोग के लिए हार्दिक बधाई "
2 hours ago
Samar kabeer commented on बासुदेव अग्रवाल 'नमन''s blog post लम्बे रदीफ़ की ग़ज़ल (कज़ा मेरी अगर जो हो)
"जनाब बासुदेव अग्रवाल'नमन'जी आदाब,उम्दा ग़ज़ल हुई है,दाद के साथ मुबारकबाद पेश करता हूँ ।"
2 hours ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service