For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Gul Sarika Thakur
Share

Gul Sarika Thakur's Friends

  • Abhishek Kumar Jha Abhi
  • जितेन्द्र पस्टारिया
  • किशन  कुमार "आजाद"
  • pawan amba
  • vijay nikore
  • आशीष नैथानी 'सलिल'
  • विजय मिश्र
  • Satish Agnihotri
  • aman kumar
  • पीयूष द्विवेदी भारत
  • अरुन शर्मा 'अनन्त'
  • Bhawesh Rajpal
  • Sanjay Mishra 'Habib'
  • वीनस केसरी
  • Pankaj Trivedi
 

Gul Sarika Thakur's Page

Profile Information

Gender
Female
City State
Bhopal
Native Place
Bihar
Profession
Freelance writer
About me
Ask my friends

Gul Sarika Thakur's Blog

सुनने वाली मशीन

अस्सी वर्षीय बाबू केदार नाथ ने अपने कानों में सुनने वाली मशीन लगाकर मफ़लर लपेट लिया| आईने में खुद को देखकर आश्वस्त हुए| मशीन पूरी तरह मफ़लर के नीचे छिप गया था| अब उन्होने पुराना टेप रिकार्डर निकाला और प्रिय गाना बजा दिया|

बरेली के बाज़ार में झुमका गिरा रे-कमरे में आशा भोसले की नखरीली आवाज़ गूंज उठी|

बाबू केदारनाथ के होंठो पर एक प्यारी सी मुस्कान खेल गई|

अजी सुनते हो! उनके कानो से एक तेज कटार सी आवाज टकराई|

अपने बाउजी को…

Continue

Posted on August 11, 2017 at 11:47am — 6 Comments

पूछना उनसे

आँख कान और जुबान की सांकल खुले तो

पूछना उनसे

जिंदाबाद का नारा लगानेवालों में

कितने ज़िंदा थे यकीनन|  

पूछना आँखे खुल जाने के बाद

रोज निगली जाने वाली मक्खियों का स्वाद

पूछना वर्तनी उन गालियों का

जिसके एक छोर पर माँ तो दूसरे छोर पर

अक्सर बहने हुआ करती है|  

मगर मत पूछना जुबान से

उस मांसल देह का स्वाद

जिसकी कन्दराओं में ना जाने

कितनी माँए और बहने दुबकी होती है

मगर एक बार पूछना जरुर

इन सांकलों के खुल…

Continue

Posted on April 4, 2014 at 2:00pm — 6 Comments

धीरे-धीरे समझे हम

इस दुनिया के तौर तरीके

धीरे धीरे समझे हम

गुलदस्तों की ओट में खंजर

धीरे-धीरे समझे हम|  …

Continue

Posted on January 23, 2014 at 3:30pm — 12 Comments

सुनो ऋतुराज- 15

सुनो ऋतुराज- 15 

सुनो ऋतुराज!!

वह एक अन्धी दौड थी 

हांफती हुई 

हदें फलांगती हुई 

परिभाषाओं के सहश्र बाड़ो को 

तोडती हुई

फिर भी वह भ्रम नही टूटा 

जिसे तोडने के लिये संकल्पित थे हम 

ऋतुओं का मौन यूँ ही बना रहा 

सावन बरस् बरस कर सूख गया 

हम अन्धड़ के वेग मे भी तने रहे 

और आसक्ति का वृक्ष सूख गया 

सुनो ऋतुराज 

लमहों का बही खाता 

जब भी खोलोगे 

दग्ध ह्रदय पर लिखा 

शुभलाभ अवश्य दिखेगा …

Continue

Posted on November 5, 2013 at 11:30am — 11 Comments

Comment Wall (7 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 9:19am on May 18, 2013, pawan amba said…
Dil se dhanywaad mujhe is kaabil samjhne kaa
At 12:52pm on May 17, 2013, विजय मिश्र said…
सरिकाजी ! नमस्कार , मित्रता के आमंत्रण हेतु आत्मीय अभिवादन एवं अभिनंदन .
At 12:49pm on May 17, 2013, विजय मिश्र said…
सरिकजी ! नमस्कार , मित्रता के आमंत्रण हेतु आत्मीय अभिवादन एवं अभिनंदन .
At 8:03am on May 16, 2013, vijay nikore said…

आदरणीया गुल सारिका जी:

मित्रता का हाथ बढ़ा कर आपने मुझको सम्मानित किया है।

साहित्यिक आनन्द की प्रत्याशा लिए।

सादर और सस्नेह,

विजय निकोर

At 2:51am on May 16, 2013, vijay nikore said…

आपकी कविता आखरी निवेश के संदर्भ में निम्न स्मृति उमड़ आई...प्रतिक्रिया तो लिखी है, पर फिर भी अलग से लिख रहा हूँ, क्योंकि समय के संग प्रतिक्रिया ढेर में चली जाती है, comments अधिक जीवित रहते हैं।

 

एक बार अमृता प्रीतम जी ने मुझको Paul Potts की कविता का

अनुवाद कर के सुनाया था ... कुछ इस तरह था ...

 

"अगर तुम उस औरत से प्यार करते हो,

जो तुमसे प्यार न करती हो,

उस समय एक ही बात (ठीक) हो सकती है,

कि तुम उस से दूर चले जाओ, बहुत दूर,

वह तुम्हें भिखारी बना क्यूँ देखे,

वह जो तुममें

बादशाह देख सकती थी।"

 

सादर,

विजय निकोर

At 11:02pm on December 12, 2012, Pankaj Trivedi said…

स्वागत है

At 11:57am on September 22, 2012, Satish Agnihotri said…

Welcome Sarika ji..

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Tasdiq Ahmed Khan commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post बोलती निगाहें (लघुकथा)
"जनाब शहज़ाद उस्मानी साहिब आ दाब , समाज को आइना दिखाती उम्दा लघुकथा हुई है मुबारकबाद क़ुबुल फरमाएं |"
2 hours ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on rajesh kumari's blog post शज़र जब सूख जाता है कोई पत्ता नहीं रहता (तरही ग़ज़ल 'राज')
"मुहतरमा राजेश कुमारी साहिबा , उम्दा ग़ज़ल हुई है मुबारकबाद क़ुबुल फरमाएं |  sher4 और 8 तकाबुले…"
2 hours ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post किसकी ख़ुशी, किसके ग़म (लघुकथा)
"जनाब शहज़ाद उस्मानी साहिब आ दाब   , आज कल के हालात पर सुंदर लघुकथा हुई है मुबारकबाद…"
3 hours ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on Tasdiq Ahmed Khan's blog post ग़ज़ल (दोस्तों वक़्त के रहबर का तमाशा देखो)
"जनाब शहज़ाद उस्मानी साहिब आ दाब, ग़ज़ल में आपकी शिर्कत और हौसला अफज़ाई का बहुत बहुत शुक्रिया |"
3 hours ago
narendrasinh chauhan commented on Naveen Mani Tripathi's blog post याद आऊं तो निशानी देखना
"सुन्दर रचना"
3 hours ago
narendrasinh chauhan commented on rajesh kumari's blog post शज़र जब सूख जाता है कोई पत्ता नहीं रहता (तरही ग़ज़ल 'राज')
"लाजवाब"
3 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani posted blog posts
4 hours ago
Naveen Mani Tripathi posted blog posts
4 hours ago
राज लाली बटाला commented on rajesh kumari's blog post शज़र जब सूख जाता है कोई पत्ता नहीं रहता (तरही ग़ज़ल 'राज')
"मुझे थी जुस्तज़ू जिसकी हुआ अफ़सोस जब देखामेरे इस शह्र में भी अब कोई मुझसा नहीं…"
4 hours ago
राज लाली बटाला updated their profile
5 hours ago
dharmraj jaiswal is now a member of Open Books Online
6 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari commented on rajesh kumari's blog post शज़र जब सूख जाता है कोई पत्ता नहीं रहता (तरही ग़ज़ल 'राज')
"आद० जनाब उस्मानी जी आपको ग़ज़ल पसंद आई मेरा लखना सार्थक हुआ दिल से बेहद शुक्रगुजार हूँ "
6 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service